Wednesday, June 4, 2014

श्रीआई


             श्रीआई
           सिल्वर कोकसकोंब



            (सेलोसिया अर्जेंटी)
किसान के खेतों में कभी
उगती है कुछ खरपतवार

                  सब्जियों में काम आती हैं
                   प्रयोग करो व्रत या त्योहार,

बाथू, चौलाई और श्रीआई
किसान ने कभी नहीं बचाई

                     धीरे-धीेरे ये  लुप्त हो  रही हैं
                    तरसेंगे फिर इन्हें लोग लुगाई,

हरे भरे पत्तों से युक्त सब्जी
खरीफ फसल में मिलती है

                     सफेद भुट्टे सा फूल खिलता
                      मदमस्त बाजरे में हिलती हैं,

गजब की सब्जी व साग बने
किसान के घर में खाया जाए

                  जब किसान खेतों से घर लौटे
                   तोड़  श्रीआई  घर को ले लाए,

खून की कमी को करती पूरा
काट पीट इसकी भाजी बनाए

                    रायता दही में जब बन जाता है
                    अंगुली को चाट-चाटकर खाए,

कितने ही खनिज लवण मिलते
कितनी इससे मिलती विटामिन

                      मुफ्त की गुणकारी मिले सब्जी
                     जन की उम्र बढ़ जाए दिनोंदिन,

भूल गए क्यों ग्रामीण सब्जी को
कहां गए वो लोग इसे खाने वाले

                        आजकल की जहरीली सब्जी से
                         रोग बढ़ते जा रहे लाइलाज वाले,

कब जागेगा इंसान धरा वाला
कब तक यूं ही करेगा संहार

                          धरती मां ने जग ऋण उतारा
                          जग का धरा पर ऋण उधार।

***होशियार सिंह, लेखक, कनीना***

No comments:

Post a Comment